कॉमोन बेट वापसी का समय

कॉमोन बेट वापसी का समय

time:2021-10-21 09:25:30 मोदी ने वैश्विक कंपनियों के प्रमुखों को तेल, गैस क्षेत्र में संभावना तलाशने को आमंत्रित किया Views:4591

1xबिट कॉमोन बेट वापसी का समय 188bet थाईलैंड,fun88 बोनस,lovebet 288 एमएक्स,lovebet गेम्स ऐप,lovebet श कैसीनो,lovebetना एंड्रॉइड,बैकारेट 540 नमूना,बैकारेट एल'ओम्ब्रे संग्रह,सर्वश्रेष्ठ पांच इनडोर पौधे,लाठी live.com,कैसीनो ग्रैन मैड्रिड,शतरंज पहली चाल,क्रिकेट 786,क्रिकेट आज,एस्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म,फ़ुटबॉल 6 जून 2021,फुटबॉलरों का नाम,है क्रिकेट,एमपीएल में पूल कैसे खेलें,क्या ऑनलाइन बैकारेट सुरक्षित है?,के क्रिकेट क्लब,लाइव कैसीनो खाता खोलें मुफ्त नकद,लॉटरी फ्लोरिडा,लूडो पैसा कमने वाला,ऑनलाइन खाता खोलने वाला URL,ऑनलाइन गेम धोखेबाज,ऑनलाइन स्लॉट अल्बर्टा,बैकरेट फोरम खेलें,पोकर टेबल टॉप,रूले डिश,रमी 45 डाउनलोड,रम्मीकल्चर नंबर,स्लॉट 40 लाइनें,खेल आधा पंत,टी लॉटरी पोस्ट,सबसे अच्छा टेक्सास होल्डम गेम,हमें लॉटरी 2020,किसमें बैकारेट खेलना है?,chess अर्थ,ऑनलाइन बैकारेट भ्रामक है,क्रिकेट छोरी,घड़ी लाटरी,तीन बाघ ™,बरसात एल्बम,मार्क छह लॉटरी,स्टेटस के गाने, .मोदी ने वैश्विक कंपनियों के प्रमुखों को तेल, गैस क्षेत्र में संभावना तलाशने को आमंत्रित किया

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को वैश्विक तेल और गैस कंपनियों को भारत आने और यहां तेल एवं प्राकृतिक गैस क्षेत्र में संभावना तलाशने को आमंत्रित किया। उन्होंने क्षेत्र में सरकार की ओर से किये गये सुधारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

तेल और गैस क्षेत्र की वैश्विक कंपनियों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) और विशेषज्ञों से सालाना बातचीत में उन्होंने कहा कि हम भारत को तेल और गैस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं।

उद्योग प्रमुखों ने ऊर्जा पहुंच, ऊर्जा को सस्ता बनाने तथा ऊर्जा सुरक्षा के क्षेत्रों में सुधार को लेकर सरकार की तरफ से उठाये गये कदमों की सराहना की।

आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने तेल और गैस क्षेत्र में पिछले सात साल में किये गये सुधारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इनमें खोज और लाइसेंस नीति, गैस विपणन, कोयला खानों से मिथेन निकालने (कोल बेड मिथेन), कोयले से गैस बनाने और भारतीय गैस एक्सचेंज में हाल के सुधार शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि भारत को तेल और गैस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिये ऐसे सुधार जारी रहेंगे।

खोज और उत्पादन का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि अब ध्यान राजस्व के बजाय उत्पादन को अधिकतम करने पर है।

प्रधानमंत्री ने कच्चे तेल के लिये भंडारण सुविधाओं की जरूरत के बारे में बात की।

देश में प्राकृतिक गैस की बढ़ती मांग के बारे में बात करते हुए उन्होंने पाइपलाइन, सिटी गैस वितरण और एलएनजी रिगैसिफिकेशन टर्मिनल समेत मौजूदा और संभावित गैस बुनियादी ढांचे के विकास का जिक्र किया।

उन्होंने कहा कि 2016 से इन बैठकों में जो सुझाव मिलते रहे हैं, उनसे तेल एवं गैस क्षेत्र के समक्ष चुनौतियों को समझने में मदद मिली है।

मोदी ने कहा कि भारत खुलेपन, उम्मीदों और अवसरों की भूमि है तथा नए विचारों, दृष्टिकोणों और नवोन्मेष से भरा हुआ है।

बयान के अनुसार, ‘‘उन्होंने भारत के साथ तेल एवं गैस क्षेत्र में भागीदारी को लेकर उद्योग प्रमुखों और विशेषज्ञों को आमंत्रित किया।’’

बातचीत में रोसनेफ्ट के सीईओ इगोर सेचिन, सऊदी अरामको के सीईओ अमीन नासिर, बीपी के सीईओ बर्नार्ड लूनी, रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी और वेदांता के प्रमुख अनिल अग्रवाल समेत दुनिया के अन्य उद्योग प्रमुख शामिल हुए।

बयान के अनुसार, ‘‘मुख्य कार्यपालक अधिकारियों ने कहा कि भारत स्वच्छ ऊर्जा प्रौद्योगिकी को तेजी से अपना रहा है और वे वैश्विक ऊर्जा आपूर्ति श्रृंखला को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।’’

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) भारत ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से कहा है कि मत्स्य पालन सब्सिडी पर मौजूदा मसौदा ‘असंतुलित’ है और इसे बातचीत के लिए स्वीकार नहीं किया जा सकता। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी है। अधिकारी ने कहा कि मसौदे में भारत द्वारा प्रस्तावित सुझावों को शामिल करने के बाद ही इसे बातचीत के लिए स्वीकार किया जा सकता है। भारत समय-समय पर कहता रहा है कि वह डब्ल्यूटीओ में मत्स्य पालन सब्सिडी के करार को अंतिम रूप देने का इच्छुक है, क्योंकि कई देशों द्वारा अत्यधिक मछलियां पकड़ने और तर्कहीन लाभों से घरेलू मछुआरोंअपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.सुकन्‍या समृद्धि योजना के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैकोलकाता, 20 अक्टूबर (भाषा) निर्यातकों ने बांग्लादेश के लिए माल ले जा रहे ट्रकों के लिए पेट्रापोल और घोजाडांगा जमीनी सीमाओं पर लंबी प्रतीक्षा अवधि को लेकर कड़ी नाराजगी जताई है। निर्यातकों ने बुधवार को बताया कि माल निर्यात करने वाले ट्रकों को एक महीने से अधिक समय के लिए रोका हुआ है। कुछ मामलों में ट्रक 55 दिनों से खड़े हुए हैं। फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट्स के चेयरमैन (पूर्व) सुशील पटवारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, “ट्रकों की लंबी प्रतीक्षा अवधि के कई कारण है। दोनों देशों से निर्यात की मात्रा बढ़ी है और दुर्गा पूजा की छुट्टियों नेबांग्लादेश सीमा पर ट्रकों की लंबी प्रतीक्षा अवधि से निर्यातक नाराज

भुवनेश्वर, 20 अक्टूबर (भाषा) इन्फोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति ने मंगलवार को कहा कि एक अच्छा नागरिक होने का मतलब समाज को अपना मानना है। वर्चुअल तरीके से आईआईटी भुवनेश्वर के 10वें वार्षिक दीक्षांत समारोह में बोलते हुए, मूर्ति ने रेखांकित किया कि देश में गरीबी को दूर करने का एकमात्र तरीका बेहतर आय के साथ अधिक से अधिक रोजगार सृजित करना है। मूर्ति ने अपने संबोधन में कहा, ‘‘युवाओं की शक्ति, मूल्यों, आकांक्षाओं, ऊर्जा, आत्मविश्वास, दृढ़ संकल्प, अनुशासन और उत्साहनयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी नाल्को ने बुधवार को ओडिशा के अंगुल में कंपनी की ‘लीन स्लरी’ (राख, गारे को निकालने की व्यवस्था) परियोजना के उद्घाटन की घोषणा की। ‘लीन स्लरी’ परियोजना के पूरा होने से कंपनी के निजी बिजली संयंत्र या कैप्टिव पावर प्लांट (सीपीपी) में उत्पन्न राख का 100 प्रतिशत उपयोग सुनिश्चित होगा। यह पर्यावरण अनुकूल और टिकाऊ संचालन के प्रति अपनी प्रतिबद्धता में एक बड़ा कदम है। बयान में कहा गया, ‘‘खान मंत्रालय के सचिव, आलोक टंडन (आईएएस) ...सुपर साइकिल का ऐसे उठाएं फायदा, इन कमोडिटीज पर लगाएं दांव

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
lovebet जॉब्स विएन

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता है

स्लॉट मशीन खोजक बिलोक्सी

दुर्ग, 20 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने बुधवार को छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के नंदिनी क्षेत्र में भिलाई इस्पात संयंत्र (बीएसपी) की चूना पत्थर खदानों का दौरा किया और उत्पादन बढ़ाने का निर्देश दिया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। संयंत्र द्वारा जारी बयान में कहा गया कि दौरे के दौरान केंद्रीय मंत्री को स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) और इसकी प्रमुख इकाई बीएसपी द्वारा नंदिनी खानों को विकसित करने के लिए किए जा रहे विभिन्न उपायों और पहलों से अवगत कराया गया। उन्होंने इस दौरान खनन जारी रखने और वहां उत्पादन बढ़ाने के लिए

10cric जॉइनिंग बोनस

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.

लाइव कैसीनो नौकरियां माल्टा

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को वैश्विक तेल और गैस कंपनियों को भारत आने और यहां तेल एवं प्राकृतिक गैस क्षेत्र में संभावना तलाशने को आमंत्रित किया। उन्होंने क्षेत्र में सरकार की ओर से किये गये सुधारों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। तेल और गैस क्षेत्र की वैश्विक कंपनियों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) और विशेषज्ञों से सालाना बातचीत में उन्होंने कहा कि हम भारत को तेल और गैस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं। उद्योग प्रमुखों ने ऊर्जा पहुंच, ऊर्जा को सस्ता बनाने तथा ऊर्जा सुरक्षा के क्षेत्रों में सुधार को लेकर

आधिकारिक Wynn उच्च फुटबॉल सट्टेबाजी नेटवर्क

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) ताप बिजलीघरों में कोयले की कमी बरकरार है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, खानों से दूर स्थित चार दिन से कम कोयला भंडार (सुपर क्रिटिकल स्टॉक) वाले बिजली संयंत्रों की संख्या मंगलवार को बढ़कर 61 पर पहुंच गयी। केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) के कोयला भंडार पर ताजा आंकड़ों के अनुसार, खानों से दूर स्थित चार दिन से कम के कोयला भंडार वाले बिजली संयंत्रों की संख्या 19 अक्टूबर को बढ़कर 61 पहुंच गयी जो 18 अक्टूबर को 58 थी। आंकड़ों से पता चलता है कि चार दिन के कोयला भंडार वाले बिजलीघरों की संख्या पिछले सप्ताह

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी