लाइव बैकरेट चीटिंग रिंग

लाइव बैकरेट चीटिंग रिंग

time:2021-10-20 01:46:10 कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत? Views:4591

ऑनलाइन जुआ english लाइव बैकरेट चीटिंग रिंग 188bet इंडोनेशिया लॉगिन,casumo टेलीफ़ोननंबर,lovebet १० कोई जमा नहीं,lovebet ईमेल आईडी,lovebet प्रोमो कोड हैक,lovebet82,बी स्लॉट प्रोमो कोड,बैकरेट इंटेलिजेंट एनालिसिस मास्टर,बैकारेट का एकल नाटक का ज्ञान,सट्टेबाजी वाउचर,कैसीनो दिवस स्वागत बोनस,कैसीनोडे xyz,कोमो जुगर रम्मी क्लासिक,क्रिकेट प्रश्न,एस्पोर्ट्स गेम्स,मछली पकड़ने की भीड़ झील उटाह,फुटबॉल ड्यूक,वैश्विक सट्टेबाजी साइट रैंकिंग,फुटबॉल की बाधा को कैसे देखें,आईपीएल यॉर्कर किंग,जंगल रम्मी ऐप,लाइव कैसीनो हनोवर मैरीलैंड,लॉटरी या छड,लूडो गोल्ड APK,बंद करो,हमारे बीच ऑनलाइन गेम मुफ्त,ऑनलाइन पोकर बनाम कंप्यूटर,पैरिमैच टेक,पोकर ओ पोकार,परिणाम जैकपॉट गिनी खेल aujourd'hui,कानून के साथ शासन,रम्मीकल्चर विवरण,स्लॉट मशीन वेक्टर,खेल टोपी,स्पोर्ट्सबुक बनाम फंतासी,टेक्सास होल्डम विकी,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल ऑल-अराउंड असिस्टेंट,कौन सी बैकारेट वेबसाइट बेहतर है,ज़ुला एस्पोर्ट्स,ऑनलाइन जुआ yjc,क्रिकेट ॲप,गोवा बालवीर,तीन पत्ती ताश गेम डाउनलोड,बकरा स्वरागिनी सॉन्ग,बैकारेट lyrics,सीरियल का खजाना, .कोरोना के दौर में सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीत?

सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. मौजूदा स्थितियों में तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है.
सैलरी बढ़ाने के लिए बातचीत करना यूं भी आसान नहीं होता है. फिर चाहे आप अपनी कंपनी में मौजूदा बॉस से चर्चा कर रहे हों या फिर नई जॉब ऑफर के लिए वहां के प्रबंधन से. इस दौरान तनाव रहता ही है. मौजूदा स्थितियों में जब कोरोना की महामारी के कारण काफी लोगों को सैलरी में कटौती और नौकरी गंवाने तक का सामना करना पड़ा है तो यह काम और भी मुश्किल हो गया है. आपको अगर इन स्थितियों का सामना नहीं करना पड़ा है. लेकिन, अपनी मौजूदा सैलरी में बढ़ोतरी या ज्‍यादा पैसे वाली नौकरी चाहते हैं, तो यह संभव है. इसके लिए आपको कुछ चीजें करनी होंगी. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

डेटा रखें तैयार
सबसे पहले आपको पूरे साल के दौरान किए गए कॉन्ट्रिब्‍यूशन को लिख लेना चाहिए. ये कॉन्ट्रिब्‍यूशन आपके कार्यक्षेत्र के अनुसार हो सकते हैं. मसलन, आपने सेल्‍स टारगेट पूरे किए हों, महत्‍वपूर्ण प्रोजेक्‍ट सफलता से निपटाया हो, अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी ली हो या कंपनी की कॉस्‍ट में अंतर पैदा किया हो इत्‍यादि. यह आपको सैलरी बढ़ाने के लिए अपना पक्ष रखने में मदद करेगा. आप बॉस के सामने साल का पूरा ब्‍योरा रख पाएंगे. इस तरह उनका फैसला हाल की घटनाओं पर निर्भर नहीं करेगा.

इसे भी पढ़ें : सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

मार्केट में अपनी वैल्‍यू जान लें
आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है. आपके अनुभव और स्किल्‍स से जुड़ी कितनी जॉब हैं. रिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट क्‍या आपको कॉल करते हैं और वे कितनी सैलरी ऑफर करते हैं.

कंपनी की जरूरत जानें
कोरोना के दौर में कंपनी की जरूरतों में बदलाव हुआ है. मुमकिन है कि जिस काम में आप बहुत अच्‍छे हों, उसमें कंपनी को लोगों की बहुत जरूरत न हो या उसमें काम घटा हो. देख लें कि आप कोर टीम का हिस्‍सा हैं या आपके बगैर ऑपरेशन चल सकते हैं.

तनाव कम करें
सैलरी पर बातचीत की जरूरत अमूमन साल में एक बार या फिर नौकरी बदलते वक्‍त पड़ती है. इस दौरान अगर आप तनाव में नहीं आते हैं तो अच्‍छा है. पर, ऐसा होता है तो अभ्‍यास जरूरी है. इसके लिए दोस्‍तों या परिवार के सदस्‍यों की मदद ले सकते हैं. अपने काम और जो सैलरी चाहते हैं, उस पर जब आप बार-बार बात करेंगे तो वास्‍तविक स्थिति आने पर तनाव कम रहेगा.

इसे भी पढ़ें : क्‍या आप एमबीए करना चाहते हैं? ये 6 बातें करेंगी आपकी मदद

सही समय चुनें
सैलरी बढ़ाने के लिए बॉस से बात करने का समय बेहद अहमियत रखता है. उस दिन ऐसी बात करना ठीक नहीं होगा जिस दिन उन्‍होंने लागत घटाने के लिए कुछ लोगों को बाहर किया हो या किसी प्रोजेक्‍ट को पूरा करने की डेडलाइन पास हो. अच्‍छा होगा कि ऐसी बातचीत टेलीफोन कॉल के बजाय आमने-सामने हो.

कमीशन और बोनस हैं ऑप्‍शन
सिर्फ वेतनवृद्धि विकल्‍प नहीं है. आप जितनी बढ़ोतरी चाहते हों, शायद कोई कंपनी उसका दोगुना देने के लिए तैयार हो सकती है. लेकिन, वह ईसॉप्‍स, बोनस या कमीशन के रूप में हो. उस स्थिति में पूछ लेना चाहिए कि ये कैसे काम करेंगे और इनका फायदा आप कैसे उठा पाएंगे.

पैसे के अलावा यह है विकल्‍प
अगर वेतन में बढ़ोतरी संभव नहीं है तो आप ऐसे दूसरे बेनिफिट देने के लिए कह सकते हैं जो आपके लिए मायने रखते हैं. इन पर कंपनी और आपकी सहमति होनी चाहिए. मसलन, आप बच्‍चे को स्‍कूल छोड़ने के लिए ऑफिस टाइमिंग को आधे घंटे शिफ्ट कराना चाहते हों. कोई अलग भूमिका चाहते हों या नए प्रोजेक्‍ट पर काम करने के इच्‍छुक हों.

(लेखक कर‍ियर कोच और मेंटर हैं.)

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

सैलरी बढ़ाने के लिए कैसे करें बातचीतकॉन्ट्रिब्‍यूशनडेटा रखें तैयारकाेराेना की महामारीवेतनवृद्धिरिक्रूटमेंट कंसल्‍टेंट

ETPrime stories of the day

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts
Under the lens

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts

10 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read
Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.
Pharma

Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.

9 mins read

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.इस साल 7.7% होगा औसत इंक्रीमेंट, जानिए किस सेक्‍टर में सबसे ज्‍यादा बढ़ेगी सैलरी

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.सैलरी और पर्क्‍स के पेमेंट के लिए कंपनियों ने शुरू किया क्रिप्‍टोकरेंसी का इस्‍तेमाल

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.देश में क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर स्थिति बहुत साफ नहीं है. कर्मचारी और कंपनियां दोनों इसे लेकर टैक्‍स के बारे में चिंतित हैं.दिवाली से पहले बैंक कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 15% बढ़ेगा वेतन

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
ऑनलाइन जुआ प्रतिष्ठा

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.

स्टेटस धोखेबाज

सुकन्या समृद्धि स्‍कीम में बेटी के जन्‍म के बाद उसके नाम पर खाता खुलवाया जा सकता है. उसके 10 साल का होने तक ऐसा किया जा सकता है.

एक साक्षात्कार में पूछने के लिए सर्वश्रेष्ठ पांच प्रश्न

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

lovebet 1 x 2 अर्थ

रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.

लूडो रश

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी