क्रिकेट अपडेट इंडिया

क्रिकेट अपडेट इंडिया

time:2021-10-21 09:07:24 कृषि, ग्रामीण श्रमिकों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में घटी Views:4591

क्या ऑनलाइन बैकारेट नकली है? क्रिकेट अपडेट इंडिया 188bet फुटबॉल भविष्यवाणी,casumo राजस्व,lovebet 1 मिलियन कोर्ट केस,lovebet ई स्पोर्ट्स,lovebet plus.c,lovebet-288,बी शतरंज,बैकारेट कैसे खेलें,बैकारेट चिड़ियाघर बंदर,बेटिंग विश्वसनीय वेबसाइट पहचान,कैसीनो दिन संपर्क,कैसीनो.कॉम कोई जमा नहीं,आओ गीत पर रेडियो चालू करें,क्रिकेट फोन,एस्पोर्ट्स निबंध,मछली पकड़ने का ग्रह सोने की भीड़,फुटबॉल स्लॉट मशीन,बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बारे में जीके,फुटबॉल बाधाओं की व्याख्या कैसे करें,आईपीएल विजेता 2020,जुएगो रम्मी-0,लाइव कैसीनो मुक्त,लॉटरी एक अर्थ,लूडो एक्सप्रेस,Baccarat में बहुत से लोग पैसे नहीं खोते हैं,ऑनलाइन जुआ मंच सॉफ्टवेयर,ऑनलाइन पोकर संयुक्त अरब अमीरात,परिमच पंजीकरण,पोकर और पिएनीडज़े डब्ल्यू पोल्ससी,प्रतिष्ठित शतरंज कक्ष,नियम तीन,रम्मीकल्चर कैश एपीके डीएपीकेप्योर,स्लॉट मशीन टैटू,स्पोर्ट्स बाइक की कीमत,स्पोर्ट्सबुक यूके,टेक्सस होल्डम अनब्लॉक पोकर ऑनलाइन खेलें,आप पोकर समीक्षा,लाइव फुटबॉल स्कोर कहां देखें,जैप वर्चुअल क्रिकेट सिम्युलेटर,ऑनलाइन जुआ online,क्रिकेट test,गोवा न्यूज़ हिंदी में,तीन पत्ती जीतने का मंत्र,बकरा बाजार,बैकारेट bank,सट्टेबाजी समारोह, .कृषि, ग्रामीण श्रमिकों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में घटी

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) कृषि श्रमिकों और ग्रामीण मजदूरों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में घटकर क्रमश: 2.89 प्रतिशत और 3.16 प्रतिशत पर आ गई, जिसका मुख्य कारण कुछ खाद्य पदार्थों की कीमतों में कमी है।

श्रम मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘सीपीआई-एएल (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-कृषि मजदूर और सीपीआई-आरएल (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक-ग्रामीण मजदूर)) पर आधारित मुद्रास्फीति अगस्त, 2021 के क्रमशः 3.90 प्रतिशत और 3.97 प्रतिशत की तुलना में सितंबर, 2021 में क्रमश: 2.89 प्रतिशत और 3.16 प्रतिशत रही।’’

बयान में कहा गया कि सितंबर, 2020 में सीपीआई-एएल और सीपीआई-आरएल पर आधारित मुद्रास्फीति दर क्रमशः 6.25 प्रतिशत और 6.10 प्रतिशत थी।

मंत्रालय ने कहा कि इसी तरह, सितंबर 2021 में सीपीआई-एएल और सीपीआई-आरएल पर आधारित खाद्य मुद्रास्फीति 0.50 प्रतिशत और 0.70 प्रतिशत थी, जबकि अगस्त 2021 में यह क्रमशः 2.13 प्रतिशत और 2.32 प्रतिशत थी। सितंबर, 2020 के दौरान यह क्रमशः 7.65 प्रतिशत और 7.61 प्रतिशत रही थीं।

सितंबर, 2021 के लिए कृषि मजदूरों (सीपीआई-एएल) और ग्रामीण मजदूरों (सीपीआई-आरएल) के लिए अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक संख्या क्रमशः 1 अंक और 2 अंक बढ़कर 1,067 और 1,076 अंक पर पहुंच गया।

अगस्त, 2021 में सीपीआई-एएल और सीपीआई-आरएल क्रमशः 1,066 अंक और 1,074 अंक था।

सूचकांक में वृद्धि/गिरावट अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग रही।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

अगर आप फुलटाइम घर से काम कर रहे हैं और आपकी कंपनी टेलीफोन, इंटरनेट, प्रिंटिंग और स्‍टेशनरी जैसे कुछ खर्चों को रीइंबर्स कर रही है तो आपको इन खर्चों पर टैक्‍स देने की जरूरत नहीं है.नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) विदेश में पढ़ाई करने की इच्छा रखने वाले कम से कम 52 प्रतिशत विद्यार्थी विश्वविद्यालय की प्रतिष्ठा के मुकाबले विशिष्ट पाठ्यक्रमों को तरजीह दे रहे हैं। एक नवीनतम अध्ययन में यह जानकारी दी गई है। वैश्विक वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी वेस्टर्न यूनियन द्वारा नीलसन आईक्यू द्वारा कराए गए अध्ययन के नतीजों के मुताबिक अब 64 प्रतिशत विद्यार्थी उन देशों और विश्वविद्यालयों को पढ़ाई के लिए प्राथमिकता दे रहे हैं जहां पर प्रवेश परीक्षा या अंग्रेजी में पांरगत होने की अनिवार्यता नहीं है। अध्ययन में कहा गया, ‘‘विदेश में पढ़ाई करने के इच्छुक विद्यार्थियों मेंकृषि, ग्रामीण श्रमिकों के लिए खुदरा मुद्रास्फीति सितंबर में घटी

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.इंदौर में सोयाबीन रिफाइंड के भाव में वृद्धि

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
लॉटरी खेल in marathi

इंदौर, 20 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय सर्राफा बाजार में बुधवार को सोना के भाव में 100 रुपये प्रति 10 ग्राम की कमी हुई। आज चांदी 400 रुपये प्रति किलोग्राम महंगी बिकी।कारोबारियो के अनुसार मूल्यवान धातुओं के औसत भाव इस प्रकार रहे।सोना 48900 रुपये प्रति 10 ग्राम,चांदी 65600 रुपये प्रति किलोग्राम,चांदी सिक्का 750 रुपये प्रति नग।

पोकर 2 जोड़ी नियम

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की आरईसी ने बुधवार को कहा कि उसने सुमितोमो मित्सुई बैंकिंग कॉरपोरेशन (एसएमबीसी) से 7.5 करोड़ डॉलर (करीब 561 करोड़ रुपये) का सावधि ऋण जुटाया है। इससे राशि का इस्तेमाल भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के बाह्य वाणिज्यिक कर्ज (ईसीबी) दिशानिर्देशों के तहत बिजली क्षेत्र की मान्य परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए किया जाएगा। कंपनी के एक बयान में कहा गया है, ‘‘भारत में किसी भी एनबीएफसी, आरईसी लिमिटेड ने सात अक्टूबर, 2021 को सुमितोमो मित्सुई

उत्पत्ति कैसीनो

नयी दिल्ली, 20 अक्टूबर (भाषा) उपभोक्ता इलेक्ट्रिकल सामान कंपनी हैवल्स इंडिया लि. का चालू वित्त वर्ष की सितंबर में समाप्त दूसरी तिमाही का एकीकृत शुद्ध लाभ 7.34 प्रतिशत घटकर 302.39 करोड़ रुपये रह गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 326.36 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। तिमाही के दौरान कंपनी की परिचालन आय 31.65 प्रतिशत बढ़कर 3,238.04 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान तिमाही में 2,459.49 करोड़ रुपये थी। हैवल्स इंडिया के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अनिल राय गुप्ता ने नतीजों पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘विभिन्न कारोबार क्षेत्र में

lovebet 602

आपको अपनी स्किल्‍स का पैसा मिलता है. इस बात का पता करें कि आप जैसी स्किल रखने वाले लोगों को बाहर कितनी सैलरी मिल रही है.

क्रिकेट खुला

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी