lovebet पोकर APK

lovebet पोकर APK

time:2021-10-20 01:28:52 पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 5-7% कर्मचारियों की छंटनी करेगी Views:4591

जंगल रम्मी प्रश्न lovebet पोकर APK 10cric सहयोगी,betway टैक्स इंडिया,लियोवेगास समूह ब्रांड,lovebet विज्ञापन कास्ट,lovebet लाइव स्ट्रीमिंग,lovebet आभासी घुड़दौड़ परिणाम,एक क्रिकेट मैच निबंध १५० शब्द,बैकारेट कंपनी,बैकारेट नियम अधिक,सट्टेबाजी ऐप्स न्यूनतम जमा,कैसीनो 1995 बॉक्स ऑफिस,कैसीनो रोड ग्लेन फॉरेस्ट,चेसिंगटन वे किंग्सले,क्रिकेट फॉर्म,डीलक्स रम्मी-0,यूरोपीय कप क्वार्टर फाइनल प्रश्नोत्तरी,फुटबॉल मैं गठन,गेमिंग स्टैंड-अलोन गेम,एचडी शतरंज छवियां,बैकरेट लाइसेंसिंग का परिचय,जैकपॉट इन,लाइव लाठी बोनस,लाइव रूले कोई जमा की आवश्यकता नहीं,लॉटरी सांबद l,भीड़ile स्कोर ऑनलाइन,ऑनलाइन कैसीनो एकाधिकार लाइव,ऑनलाइन आधिकारिक मनोरंजन वेबसाइट,1 से अधिक लवबेट,पोकर c3,पूल रम्मी जोन,रॉयल जॉर्डनियन,रमी पैसे कमाने वाला ऐप,स्लॉट 008,स्लॉट व्यू उदाहरण,खेल क्षेत्र चेंबूर,टेक्सास होल्डम ऐप,सबसे सुरक्षित baccarat,वीको रम्मी 99045,विश्व फुटबॉल खाता,आश्चर्य दिखा,कैसीनो के खेल converter,खेलो पर जुआ yad,जोकर बाबा मटका,फुटबॉल छत्तीसगढ़,बेटा छठी माई के गाना,लॉटरी bazar.in,स्पोर्ट्स चैनल क्रिकेट .पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस 5-7% कर्मचारियों की छंटनी करेगी

कंपनी के कारोबार में काफी कमी आई है. खर्च घटाने के लिए उसने यह रास्‍ता अपनाया है.
कोलकाता : पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस अपने 5-7 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है. कंपनी के कारोबार में काफी कमी आई है. खर्च घटाने के लिए उसने यह रास्‍ता अपनाया है. इस तरह पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस भी उन कंपनियों में शामिल हो गई है जिन्‍होंने पिछले छह महीनों में अपने कर्मचारियों की संख्‍या घटाई है.

कर्मचारियों की छंटनी की खबर ऐसे समय आई जब एक महीने पहले ही हरदयाल प्रसाद ने कंपनी में चीफ एग्‍जीक्‍यूटिव का पद संभाला है. उन्‍होंने अंतरिम प्रमुख नीरज व्‍यास की जगह ली है.

इसे भी पढ़ें : पुराने कर्मचारियों को नौकरी पर बुला रही हैं आईटी कंपनियां

मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि कंपनी ने 80-100 लोगों को इस्‍तीफा देने के लिए कहा है. कर्ज देने वाली इस कंपनी का मार्केटकैप 4,863 करोड़ रुपये का है. इस पर 68 हजार करोड़ रुपये का लोन बकाया है. छंटनी से पहले देश के विभिन्न राज्‍यों में इसके 1500 कर्मचारी थे.

इस मामले पर ईटी के सवाल के जवाब में कंपनी ने कहा, ''हम अपने संसाधनों को दोबारा एलोकेट करने की प्रक्रिया में हैं. इसका मकसद पीएनबी हाउसिंग को सतत ग्रोथ की राह पर ले जाना है. इन कोशिशों में बहुत मुश्किल फैसले लेने पड़ रहे हैं. कार्यबल में सीमित संख्‍या में बदलाव भी इसका हिस्‍सा है. हालांकि, बताई गई संख्‍या सही नहीं है. यह बढ़ाचढ़ाकर दिखाई गई है.''

इसे भी पढ़ें : दो साल में इन 8 क्षेत्रों में होंगे नौकरी के खूब मौके

क्‍या कंपनी ने अपने सीनियर मैनेजमेंट को सालाना बोनस और इंक्रीमेंट दिया है, इस सवाल के जवाब में पीएनबी हाउसिंग ने कहा, ''कोरोना की महामारी से उपजी असाधारण स्थितियों के चलते कंपनी पहली तिमाही में ऐसा कर पाने में असमर्थ थी. अभी इसकी समीक्षा की जा रही है. समय के साथ इसके बारे में एलान किया जाएगा.''

पूंजी की कमी के चलते कंपनी का कारोबार पिछले साल से ही घटना शुरू हो गया था. जून तिमाही में डिस्‍बर्समेंट (लोन वितरण) 91 फीसदी घटकर 694 करोड़ रुपये रह गया. पिछले साल की इसी अवधि में यह 7,634 करोड़ रुपये था.

32.7 फीसदी होल्डिंग के साथ पीएनबी इस कंपनी की प्रमोटर है. उसने बीते महीने मॉर्गेज लोन देने वाली कंपनी में 600 करोड़ रुपये की पूंजी डालने का एलान किया था. कंपनी तरजीही आवंटन या शेयरों के राइट्स इश्‍यू के जरिये भी 1800 करोड़ रुपये की पूंजी जुटाने के बारे में विचार कर रही है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

पीएनबी हाउसिंग फाइनेंसकर्मचारियों की छंटनीकोरोना की महामारीपीएनबीछंटनी

ETPrime stories of the day

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?
Agriculture

Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?

7 mins read

कई ग्राहक मोरेटोरियम और उससे पड़ने वाले असर को नहीं समझते हैं. इसे देखते हुए कलेक्‍शन में बाधा आई है.नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) भारत की पेंशन प्रणाली 43 व्यवस्थाओं की रैंकिंग में 40वें स्थान पर है। वहीं पेंशन के मामले में पर्याप्त लाभ से जुड़े पर्याप्तता उप-सूचकांक (एडिक्वेसी सब-इंडेक्स) के मामले में निचले पायदान पर है।मंगलवार को जारी मर्सर सीएफए वैश्विक पेंशन सूचकांक (एमसीजीपीआई) में यह कहा गया है। इसके अनुसार देश में सेवानिवृत्ति के बाद पर्याप्त आय सुनिश्चित करने को लेकर पेंशन प्रणाली को बेहतर बनाने लिये रणनीतिक सुधारों की जरूरत है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सामाजिक सुरक्षा का दायरा मजबूत और पर्याप्त नहीं होने से कार्यबल को पेंशन की व्यवस्था को लेकर स्वयं बचत करनी होतीअगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

मुंबई, 19 अक्टूबर (भाषा) विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) ने कहा है कि भारत में जारी कोविड से संबंधित व्यवधानों के बाद इस साल सोने की मांग कम रहने की संभावना है। परिषद ने एक रिपोर्ट में कहा है कि हालांकि कीमती धातु की मांग में कमी के बाद वर्ष 2022 में मजबूत मांग का दौर शुरू होने की संभावना है। रिपोर्ट- ‘द ड्राइवर्स ऑफ इंडियन गोल्ड डिमांड’ के अनुसार, कोविड -19 की रोकथाम के लिये लंबे समय से जारी अभियान के बाद, इस साल सोने की मांग अपेक्षानयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर सरकार द्वारा किए गए केंद्रित प्रयासों की वजह से आज भारतीय और वैश्विक निवेशक इस संघ शासित प्रदेश में निवेश करना चाहते है। केंद्र सरकार के जनता तक पहुंच के कार्यक्रम के तहत गोयल की दो दिन की पहलगाम यात्रा मंगलवार को संपन्न हुई। पहलगाम में अपने संबोधन में गोयल ने विकास प्रक्रिया में भागीदारी के लिए कश्मीर के लोगों का आभार जताया। एक आधिकारिक बयान के अनुसार, गोयल ने पर्यटन गतिविधियों के प्रसार में उनकी प्रतिबद्धता की सराहना की। उन्होंने कहाक्‍या आप एमबीए करना चाहते हैं? ये 6 बातें करेंगी आपकी मदद

इसके साथ ही देश के इस सबसे बड़े बैंक ने कहा कि वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्‍कीम (वीआरएस) लागत में कटौती करने के लिए नहीं है.मुंबई, 19 अक्टूबर (भाषा) विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) ने कहा है कि भारत में जारी कोविड से संबंधित व्यवधानों के बाद इस साल सोने की मांग कम रहने की संभावना है। परिषद ने एक रिपोर्ट में कहा है कि हालांकि कीमती धातु की मांग में कमी के बाद वर्ष 2022 में मजबूत मांग का दौर शुरू होने की संभावना है। रिपोर्ट- ‘द ड्राइवर्स ऑफ इंडियन गोल्ड डिमांड’ के अनुसार, कोविड -19 की रोकथाम के लिये लंबे समय से जारी अभियान के बाद, इस साल सोने की मांग अपेक्षायूपी : 31,000 टीचरों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
लाइव ब्लैकजैक स्पीलें

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) हाजिर बाजार में कमजोरी के रुख को देखते हुए कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में मंगलवार को बिनौलातेल खली की कीमत 40 रुपये की गिरावट के साथ 2,476 रुपये प्रति क्विन्टल रह गई। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच मौजूदा स्तर पर कारोबारियों द्वारा अपने सौदों की बिकवाली करने से मुख्यत: बिनौलातेल खली वायदा कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। एनसीडीईएक्स में बिनौलातेल खली के दिसंबर माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 40 रुपये अथवा 1.59 प्रतिशत

lovebet 2 कारक प्रमाणीकरण अक्षम

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बताया कि कोविड-19 महामारी के कारण अब तक परीक्षा आयोजित नहीं कराई जा सकी थी.

lovebet जमी फोरम

एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.

एमटीएन 8 लवबेट

एनालिटिक्‍स संबंधी जॉब्‍स निकालने वाली कंपन‍ियों में एक्‍सेंचर, एमफेसिस, कग्निजेंट टेक्‍नोलॉजी सॉल्‍यूशन, केपजेमिनी, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, आईबीएम इंडिया, डेल, एचसीएल टेक्‍नोलॉजी और कोलेबरा टेक्‍नोलॉजी प्रमुख हैं.

भारत में पोकर टूर्नामेंट

कई ग्राहक मोरेटोरियम और उससे पड़ने वाले असर को नहीं समझते हैं. इसे देखते हुए कलेक्‍शन में बाधा आई है.

संबंधित जानकारी
lovebet अर्जेंटीना

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) भारत की पेंशन प्रणाली 43 व्यवस्थाओं की रैंकिंग में 40वें स्थान पर है। वहीं पेंशन के मामले में पर्याप्त लाभ से जुड़े पर्याप्तता उप-सूचकांक (एडिक्वेसी सब-इंडेक्स) के मामले में निचले पायदान पर है।मंगलवार को जारी मर्सर सीएफए वैश्विक पेंशन सूचकांक (एमसीजीपीआई) में यह कहा गया है। इसके अनुसार देश में सेवानिवृत्ति के बाद पर्याप्त आय सुनिश्चित करने को लेकर पेंशन प्रणाली को बेहतर बनाने लिये रणनीतिक सुधारों की जरूरत है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सामाजिक सुरक्षा का दायरा मजबूत और पर्याप्त नहीं होने से कार्यबल को पेंशन की व्यवस्था को लेकर स्वयं बचत करनी होती

गरम जानकारी
लॉटरी भविष्यवाणी कैलकुलेटर

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) भारत ने वैश्विक खाद्य सुरक्षा (जीएफएस) सूचकांक-2021 में 113 देशों के बीच 71वां स्थान हासिल किया है। भारत कुल अंकों के लिहाज से दक्षिण एशिया में सबसे अच्छे स्थान पर रहा लेकिन खाद्य पदार्थों की वहनीयता के मामले में अपने पड़ोसी देशों पाकिस्तान और श्रीलंका से पीछे है।खाद्य पदार्थ वहनीयता श्रेणी में पाकिस्तान (52.6 अंक के साथ) ने भारत (50.2 अंक) से बेहतर अंक हासिल किया है।इकनॉमिस्ट इम्पैक्ट और कोर्टेवा एग्रीसाइंस द्वारा मंगलवार को जारी एक वैश्विक रिपोर्ट में कहा गया कि जीएफएस इंडेक्स-2021 की इस श्रेणी में श्रीलंका 62.9 अंकों के साथ और भी बेहतर